अपराधप्राइम एक्सक्लूसिव
Trending

Kanpur: हुटरबाज नेताओं की गाड़ियों के आगे क्यों नतमस्तक दिखाई देती है पुलिस ?

कानपुर के हुटरबाज नेताओं की गाड़ियों के आगे आखिर क्यों नतमस्तक दिखाई देती है आईजी साहब की पुलिस फोर्स ?

किस नियम के तहत या कानपुर महानगर में धड़ल्ले से तीव्र ध्वनि यंत्रों की बिक्री एवं कारों में इन्हें लगाकर लोग चल रहे हैं ?

हूटर बजा कर चौराहे पार करती सरपट रोडो पर दौड़ती कारो के कफिलो के आगे पुलिस क्यों नजर आ रही बेबस ?
कानपुर के ज्यादातर, दबंग, विधायक, सांसद ,मंत्री जी  फिर उनके साथियों की गाड़ियों के ऊपर खुलेआम अवैध रूप से लगे हूटर हटवाने का काम आजतक  पुलिस आखिर क्यों नहीं कर पाई है ??
आईजी साहब
क्या आपकी पुलिस को इन हूटर बाज नेताओं से डर लगता है ,या इनके लिए आपके पास कोई विशेष कानून व्यवस्था है, जो इस सभ्य समाज से परे है ??
प्रतिदिन कानपुर महानगर के हर चौराहे से लगभग सैकड़ों हूटर लगी गाड़ियां पास होती लेकिन चौराहों पर कैमरों की निगाहें होने के बावजूद पुलिस कोई भी कार्रवाई करने से क्यों कतराती है ?
माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने प्रोटोकोल को हर संभव प्रयास कर खत्म करने का प्रयास किया है फिर भी जनता के ऊपर रौब गाढ़ने , अपना वर्चस्व दिखाने को हूटर बाज नेता, अपराधी, दबंग, हर संभव प्रयास करते है.विगत कई वर्षों में इस कानपुर जैसे महानगर में कई आला अधिकारियों का आना जाना हुआ लेकिन कानपुर जैसे दबंग शहर से इन हूटर बाज़ नेताओं का घमंड कोई आला अधिकारी उतारने में सफल साबित नहीं हो सका
और अगर आप सफल हो गए तो आपको देख कर हमेशा हर उस मिडिल क्लास फ़ैमिली से जीवन यापन करने वाले शक्श के मन में पुलिस के प्रति विशेष सम्मान की भावना जरूर जगेगी जिसको रास्ते में सायकिल या मोटर साइकिल से जाते वक्त बगल में कानों को फ़ाड़ देना शोर सुनाई देता है जो किसी एंबुलेंस का ना होकर किसी नेता या दबंग कि सफारी या स्कॉर्पियो में लगे अत्यन्त तीव्र ध्वनि करने वाले यंत्रों का होता है

Gaurav Kushwaha

Mr. Gaurav Kushwaha crossing over 5 years of experience in this industry. Now He is the Editor-in-chief in Prime Today.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button