उत्तर प्रदेशजॉब अलर्टताजा खबरसोशल ज्ञान
Trending

69000 शिक्षक भर्ती मामला :योगी सरकार पर आरक्षण प्रक्रिया के उल्लंघन का आरोप ?

105 अंक लाने वाले को नही मिली नौकरी 67 नंबर वालो की एंट्री ।

पीटीएन: खबर विशेष – उत्तर प्रदेश में लगातार शिक्षक भर्ती को लेकर हंगामे आंदोलन और योग्य अभ्यर्थियों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे ताजा मामला शिक्षक भर्ती में हुए कथित घोटाले का निकल कर सामने आ रहा है ।

68500 शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में सिर्फ 67 अंक लाने वालों का एंट्री हो गई है जबकि 105 नंबर लाकर पास होने वालों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है पूरे ही शिक्षक भर्ती प्रणाली पर अभ्यार्थियों ने कड़े आरोप लगाए हैं।

UP में 69 हजार शिक्षक भर्ती मामलें में आरक्षण का बहुत बड़ा घपला हुआ है। इस भर्ती में पीड़ित आरक्षित वर्ग के बेरोजगार युवाओं का आरोप है की ओबीसी वर्ग को 27% की जगह 3.86% आरक्षण दिया गया तो वही एससी वर्ग को 21% की जगह मात्र 16% आरक्षण दिए जाने का आरोप सरकार पर लगाया है।

Also Read : मुख्य विकास अधिकारी सौम्या पांडे ने वृक्षारोपण को लेकर की समीक्षा बैठक दिए दिशा निर्देश

एनसीबीसी ने भी माना भर्ती में हुआ आरक्षण प्रक्रिया का उल्लंघन

राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग National Commission for Backward Classes को की गई शिकायत में भी यह माना गया ही कहीं ना कहीं खामियां पाई गई है आयोग ने सुनवाई के दौरान उत्तर प्रदेश पिछड़ा वर्ग आरक्षण नीति 1994 का पूर्ण रूप से इस प्रक्रिया में उल्लंघन माना है लेकिन इसके बाद भी अभी तक जिम्मेदारो के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गई सुनवाई उपरांत राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग द्वारा अपनी रिपोर्ट प्रेषित कर दी गई है।

फिलहाल शिक्षक भर्ती का मामला थमा नहीं है 22,000 योग्य अभ्यार्थियों ने उन सीटों को भी 69000 सीटों में जोड़ने का अनुरोध सरकार से किया है जो पद खाली रह गए हैं उन पदों पर उन्हें जगह दी जाए ऐसा कहां जा रहा है।

हालांकि शिक्षक भर्ती को लेकर योग्य अभ्यार्थियों में खासा रोष भी देखने को मिल रहा है अभ्यर्थी परेशान हैं उन्हें नौकरी नहीं मिल रही है खर्चा चलाने तक की जुगत अब नहीं लगा पा रहे हैं फिलहाल रोने के सिवा कोई दूसरा चारा योगी सरकार में अभी उन्हें दिखाई नहीं पड़ रहा है।

हमारी खबरों को Whatsapp में पढ़ने के लिए क्लिक करे.

Gaurav Kushwaha

Mr. Gaurav Kushwaha crossing over 5 years of experience in this industry. Now He is the Editor-in-chief in Prime Today.

Related Articles

Back to top button